हिंदी कविता

हिंदी कविता

आया मानसून झूम के- बकौल घाघ

BY
Rita

शुक्रवार की बादरी, रही शनिचर छाय।घाघ कहै सुन घाघिनि, बिन बरसे नहीं जाए।। ये घाघ है। सही समझे आप,वही छपरा ...

हिंदी कविता

प्रेमी साथी के लिए जन्मदिन मुबारक (हैप्पी बर्थडे) पर हिंदी कविता

BY
Rita

तेरे जन्मदिन पर तुझे एक पैगाम भेज रही हूंतू सदा खुश रहे रब से ऐसी दुआ कर रही हूं यूं ...

हिंदी कविता

सोच…एक कविता

BY
Rita

क्या रोता है पगले अपनी किस्मत पर.अगर नहीं रोता इंसानो की इस जुर्रत पर, कही लूट-पाट कही छेर-छार,जहाँ आच आती ...

हिंदी कविता

समय की पाठशाला (एक मज़ेदार कविता)

BY
Rita

आओ आज समय की बात करता हूं,बातों-बातों में दिन को रात करता हूं,आओ आज समय की बात करता हूं। जो ...

हिंदी कविता

“इधर भी गधे हैं, उधर भी गधे हैं” ओम प्रकाश आदित्य जी की कविता

BY
Rita

ओम प्रकाश आदित्य जिनका जन्म हरयाणा के गुरुग्राम में 5 नवंबर सन 1936 को हुआ था। ओम प्रकाश जी दिल्ली ...

हिंदी कविता

“हम हार नहीं मानेंगे” नेपोटिज्म के खिलाफ भारत पर मनोज मुंतशिर की हिंदी कविता

BY
Rita

उत्तर प्रदेश के अमेठी आने वाले मनोज शुक्ला, जिन्हें लोग प्यार से मनोज मुंतशिर भी बुलाते है जो एक भारतीय ...