Home अन्य आज ही के दिन क्यों मनाते हैं नेशनल डॉक्टर्स डे

आज ही के दिन क्यों मनाते हैं नेशनल डॉक्टर्स डे

0
3

1 जुलाई यानी कि आज नेशनल डॉक्टर्स डे मनाया जाता है। हर साल डॉक्टर डे पर एक अलग थीम बनाई जाती है।इस साल नेशनल डॉक्टर्स डे की थीम है “फैमिली डॉक्टर ऑन द फ्रंट लाइन”।

नेशनल डॉक्टर्स डे पहली बार बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर बी सी राय के काम का सम्मान करने के उद्देश्य से 1991 में मनाया गया था।जैसा कि सभी जानते हैं वह एक बहुत ही प्रसिद्ध डॉक्टर थे और उन्होंने समाज की सेवा के लिए बहुत परिश्रम किया था 1961, 4 फरवरी को उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार ‘भारत रत्न’ से सम्मानित भी किया गया था।डॉक्टर बी सी राय ने जादवपुर टीवी हॉस्पिटल,विक्टोरिया इंस्टीट्यूशन (कॉलेज) और चितरंजन कैंसर हॉस्पिटल सहित और भी इंस्टिट्यूशनस की स्थापना की थी। 1 जुलाई का दिन भारतीय चिकित्सा संघ (IMA) द्वारा मनाया जाता है।

जैसा की आप सभी को पता है कि भारत में डॉक्टर को भगवान का ही रूप माना जाता है।हमारे यहां डॉक्टर का महत्व बहुत है,पर अगर पेशेंट की मौत हो जाती है या उसे कुछ और होने लगता है तो पूरा दोष डॉक्टर पर ही आ जाता है।कोई भी डॉक्टर अपने मरीज की मृत्यु नहीं चाहता है।वह यही चाहता है कि उसका मरीज हमेशा अच्छे स्वास्थ्य में रइसके लिए वे प्रयास भी करते हैं, लेकिन कई बार पेशेंट के मर जाने से डॉक्टरो पर अपनी जान का खतरा हो जाता है। लोग उन्हें मारने,जलाने,उनके परिवार को खत्म करने की धमकी देने लगते हैं।

इसी स्थिति को सुधारने के लिए डॉक्टर्स डे मनाने पर इतना जोर दिया जाता है।नेशनल डॉक्टर्स डे डॉक्टर्स की कड़ी मेहनत और उनके समर्पण को और साथ ही साथ समाज में डॉक्टरों की भूमिका को सुधारने के लिए मनाया जाता है।डॉक्टर्स डे पर आप अपने आसपास के डॉक्टर जिनसे आप अपना इलाज कराते हैं,उनका शुक्रिया अदा कर सकते हैं।क्योंकि एक डॉक्टर ही है जिस वजह से हम अपना जीवन अच्छी तरह से जे पाते हैं।कोविड-19 महामारी के दौरान हम अपने घरों में सुरक्षित थे और वही डॉक्टर और देखभाल करने वाले स्वास्थ्य कर्मचारी इस महामारी का सामना करते हुए हमारी रक्षा कर रहे थे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here