National Symbols of India with Names List: ये हैं भारत के 17 राष्‍ट्रीय चिन्ह, जानें भारत के राष्ट्रीय चिन्ह का अर्थ और इनसे जुड़े तथ्य

हर राष्ट्र की पहचान उसके राष्ट्रीय प्रतीक व चिन्‍ह होती है, यह प्रतीक उन देशों का इतिहास को बताते हैं, भारत के भी अपने कई राष्ट्रीय प्रतीक व चिन्‍ह है जिनकी संख्या 17 है ये हमारे देश की संस्कृति और विरासत का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये हमारे देश की विरासत और गौरव हैं। इन प्रतीकों के अलग-अलग महत्व है और इसे देश का गर्व दिखाने के लिए राष्ट्रीय प्रतीक के रूप में चुना गया है। क्या आप जानते हैं भारत के राष्ट्रीय प्रतीक कौन-कौन से हैं? अगर नहीं तो आईए जानते हैं भारत के 17 राष्ट्रीय प्रतीक व चिन्‍ह के बारे में।

National SymbolsName
राष्ट्रीय ध्वजतिरंगा
भारत का चिह्नभारत का राष्ट्रीय चिह्न
राष्ट्र गानजन गण मन
राष्ट्रीय गीतवंदे मातरम
राष्ट्रीय मुद्राभारतीय रुपया
राष्ट्रीय कैलेंडरसाका कैलेंडर
राष्ट्रीय नदीगंगा
राष्ट्रीय फलआम
राष्ट्रीय पुष्पकमल
राष्ट्रीय पशुबंगाल टाइगर
राष्ट्रीय जलीय जीवगंगा नदी डॉल्फिन
राष्ट्रीय पक्षीभारतीय मोर
राष्ट्रीय सरीसृपकिंग कोबरा
राष्ट्रीय धरोहर पशुभारतीय हाथी
राष्ट्रीय वृक्षभारतीय बरगद
राष्ट्रीय वनस्पतिकद्दू
निष्ठा की शपथराष्ट्रीय प्रतिज्ञा

1. राष्ट्रीय ध्वज

तिरंगा भारत का राष्ट्रीय ध्वज है, or hummare es tirange ko पिंगली वेंकय्या ji द्वारा डिजाइन किया गया था jise 22 जुलाई 1947 को विधानसभा द्वारा अपनाया गया । हमारे देश के राष्ट्रीय ध्वज के तीनो रंगो के अलग अलग महत्व है – केसरिया रंग त्याग और बलिदान का, सफ़ेद रंग शांति, सत्य और पवित्रता का तथा हरा रंग देश की समृद्धि का प्रतीक है। राष्ट्रीय ध्वज के बीच में 24 तिलियों वाला चक्र होता है, जो अशोक चक्र से लिया गया है।

2. राष्ट्रीय प्रतीक

भारत का राष्ट्रीय चिन्ह् है, यह सम्राट अशोक द्वारा सारनाथ में बनवाये गए अशोक स्तंभ से लिया गया है। भारत का राष्ट्रीय चिन्ह ‘सत्यमेव जयते’ के आदर्श वाक्य का प्रतिनिधित्व करता है। 26 जनवरी 1950 में इसे अंगीकृत किया गया था जब भारत गणराज्य बना।

यह भी जरूर पढ़ें:  Chenab Bridge की 5 बड़ी खासियत जिसको सुनके दिल गार्डन गार्डन हो जायेगा

3. राष्ट्रगान

जन गण मन भारत का राष्ट्रगान है। संवैधानिक सभा द्वारा 24 जनवरी 1950 को जन गण मन को राष्ट्रगान के रुप में मान्यता दी गयी थी। इसके रचियता रविन्द्रनाथ टैगोर हैं, इस सम्पूर्ण गीत या गान को गाने में लगभग 52 सेकंड का समय लगता है। 

Aapko ye jaan ke ascharya hoga bataya jata hai jis jana gana mana ko hum shaan se राष्ट्रीय गान mante hai or jisko sunke ya gane se humare rongte khade ho jate hai

Us राष्ट्रीय गान ko रवींद्रनाथ टैगोर ने saal 1911 me वास्तव में अंग्रेजों को खुश करने के लिए or britain ke raja जॉर्ज पंचम को श्रद्धांजलि देने के लिए likha tha

4. राष्ट्रीय गीत

वंदे मातरम भारत का राष्ट्रीय गीत है। इसे बंकिम चंद्र चटर्जी ने लिखा था। जिसे 1950 में विधानसभा द्वारा अपनाया गया था।

बताया जाता है वास्तविक वन्दे मातरम् में 6 छंद है। लेकिन इसके दो छंद को ही आधिकारिक रुप से अपनाया गया है।

5. राष्ट्रीय मुद्रा

भारत की आधिकारिक मुद्रा भारतीय रुपया है जिसे आईएनआर भी कहा जाता है। भारतीय रुपये से संबंधित सभी मुद्दों को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया निगरानी करता है। भारतीय रुपये के इस चिह्न को उदयकुमार धर्मलिंगम ने डिजाइन किया है जिसे 2010 में अपनाया गया था और 8 जुलाई 2011 को प्रचलन में आया

6. राष्ट्रीय कैलेंडर

शक युग भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर है। इसे 22 मार्च 1957 को राष्ट्रीय कैलेंडर के रूप में अपनाया गया था। यह कैलेंडर 22 मार्च से शुरू होता है और इसमें सामान्य वर्ष की तरह 12 महीने या 365 दिन होते हैं। एक अधिवर्ष में, शुरुआती दिन 21 मार्च है।

7. राष्ट्रीय नदी

माँ गंगा नदी सबसे पवित्र नदी मानी जाती हैं, यह करीब 2,510 किलोमीटर का सफर कर बंगाल की खाड़ी में गिरती हैं। प्राचीन समय से ही हिन्दू धर्म में माँ गंगा नदी का बहुत बड़ा धार्मिक महत्व है। माँ गंगा की उत्पत्ति हिमालय में गंगोत्री ग्लेशियर के हिमक्षेत्र में भगीरथी नदी के रुप में हुई है। इसे 2008 में भारत की एक राष्ट्रीय नदी घोषित किया गया था। माँ गंगा नदी हमारे प्रमुख शहर वाराणसी, prayagraj और हरिद्वार से होकर गुजरती है

यह भी जरूर पढ़ें:  भारत में एक मुख्यमंत्री की सैलरी कितनी है?

8. राष्ट्रीय फल

फलों के राजा आम भारत का राष्ट्रीय फल है। यह भारत में सबसे लोकप्रिय फलों में से एक है। ये आमतौर पर, गर्मी के मौसम के दौरान पाया जाता है। भारत आम के फलों की 100 से अधिक किस्मों का घर है। भारत में आम प्रकृति के साथ-साथ जंगली जंगलों में भी पाया जाता है। भारत के राष्ट्रीय फल के रूप में यह देश की छवि के पक्ष में समृद्धि, बहुतायत और समृद्धि का प्रतिनिधित्व करता है।

9. राष्ट्रीय फूल

कमल को भारत में राष्ट्रीय फूल का दर्ज मिला है। भारत में कमल पौराणिक फूल है और इसके चारों ओर बहुत सारी लोककथाएँ और धार्मिक पौराणिक कथाएँ हैं। यह फूल उर्वरता, ज्ञान, समृद्धि, सम्मान, लंबी आयु और सुंदरता का प्रतीक है। इसका प्रयोग देश भर में धार्मिक अनुष्ठानों आदि के लिये भी किया जाता है।

10. राष्ट्रीय पशु

भारत का राष्ट्रीय पशु बंगाल बाघ है जिसे हम रॉयल बंगाल टाइगर भी बोलते है यह अत्यंत शक्तिशाली, मज़बूती और भारत के गर्व का प्रतीक है। इन बाघों की अधिकतम उम्र लगभग 20 साल होती है। यह एक लुप्तप्राय जानवर है इसलिए इसे भारत के राष्ट्रीय पशु के रूप में अपनाया गया था और इसकी घोषणा अप्रैल 1973 में किया गया था। 

11. राष्ट्रीय जलीय जीव

गंगा नदी की डॉल्फ़िन को राष्ट्रीय जलीय जीव के रूप में जाना जाता है यह डॉल्फिन की एक दुर्लभ प्रजाति है जो कभी गंगा नदी में बड़ी संख्या में पाई जाती थी लेकिन पिछले कुछ वर्षों में डॉल्फ़िन की संख्या में कमी आई है। इसलिए इनकी रक्षा के लिए इन्हे भी राष्ट्रीय जलीय जंतु घोषित किया गया। इसे 18 मई, 2010 को भारत के राष्ट्रीय जलीय जीव के रूप में अपनाया गया है। यह एक स्तनधारी पशु है जो सिर्फ शुद्ध और मीठे जल में जीवित रह सकता है।

यह भी जरूर पढ़ें:  चीन का युआन वांग 5 जहाज कितना खतरनाक है?

12. राष्ट्रीय पक्षी

भारत में मोर को राष्ट्रीय पक्षी का दर्ज दिया गया है इसे 1963 में राष्ट्रीय पक्षी के रूप में अपनाया गया था। यह पक्षी एकता के सजीव रंगों और भारतीय संस्कृति को प्रदर्शित करता है। ये सुन्दरता, गर्व और पवित्रता को भी दिखाता है। भारतीय वन्यजीव सुरक्षा की धारा 1972 के तहत इसे सुरक्षा प्रदान की गयी है। तथा इनके गैर-कानूनी व्यापार पर रोक लगाई गई है।

13. राष्ट्रीय सरीसृप

किंग कोबरा भारत का राष्ट्रीय सरीसृप है। यह दुनिया का सबसे लंबा विषैला सांप है जो 19 फीट तक बढ़ने में सक्षम है और 25 साल तक जीवित रह सकता है। एक बार के काटने में, किंग कोबरा 20 लोगों या एक हाथी को मार सकता है। यह वर्षा वनों और मैदानों में रहता है। यह दुनिया का एकमात्र सांप है जो अपने अंडों के लिए घोंसले बनाता है और उन्हें तब तक पालता है जब तक कि वे अंडे से बाहर नहीं आते।

14. राष्ट्रीय धरोहर पशु

भारतीय हाथी भारत का राष्ट्रीय विरासत पशु है। हाथी विलुप्त होने के कगार पर हैं इसलिए उनकी सुरक्षा के लिए भारतीय हाथी को राष्ट्रीय विरासत पशु घोषित किया गया।

15. राष्ट्रीय वृक्ष

देश का राष्ट्रीय वृक्ष का दर्जा भारतीय बरगद का पेड़ को मिला हुआ है। जिसे हम वट वृक्ष भी कहते है. यह वृक्ष एकता और दृढ़ता का प्रतीक है, इसका विशाल आकार, बड़ी डालियां, गहरी जड़ें हैं जो भारत की एकता का प्रतिनिधित्व करती हैं, इस वृक्ष का धार्मिक महत्व होने के साथ इसमें कई औषधीय गुण भी पाए जाते हैं।

16. राष्ट्रीय सब्जी

कद्दू भारत की राष्ट्रीय सब्जी है। यह उन कुछ पौधों में से एक है जो पूरे देश में और कम संसाधनों के साथ उगते हैं। कद्दू के अन्य नाम सीताफल, काशीफल, रामकोहला तथा पुष्पफल हैं। इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन ए पाया जाता है।

17. निष्ठा की शपथ

राष्ट्रीय प्रतिज्ञा निष्ठा की शपथ है। इसका स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान स्कूलों में उच्चार किया जाता है। यह प्यिदीमर्री वेंकट सुब्बा राव (Pydimarri Venkata Subba Rao) द्वारा रचित था। सर्वप्रथम 1963 में विशाखापत्तनम के एक स्कूल में निष्ठा की शपथ ली गई थी

Leave a Comment