10 रंगों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में | Rango Ke Naam Hindi Aur English Mein

10 हो या 20 यहां सभी प्रकार के महत्वपूर्ण रंगों के नाम की सूची हिंदी और इंग्लिश भाषा में लिखे गए हैं। बैगनी, इंडिगो, नीला, हरा, पीला, नारंगी और लाल – इन्द्रधनुष में सात रंग।

ये दुनिया कितना अजीब होता न यदि रंग नहीं होता तो। ना जाने कैसा दिखता हमारा प्रकृति। भगवान ने इस दुनिया को बेहद रंगीन बनाया है इन मोहक रंगों से। रंगों के बिना दुनिया की कल्पना करना बेहद कठिन है अर्थात हम ऐसी कल्पना कभी कर ही नहीं पाएंगे। वो दृश्य ही क्या जो बेरंग हो इसलिए तो इस प्रकृति में हर चीज किसी ना किसी रंग का होता है।जब सात रंगों से इन्द्रधनुष बनता देखने को मिलता है तो मानो फिर दुनिया में उससे बेहतरीन कुछ हो नहीं सकता।कितना सुन्दर दृश्य होता है न आसमान में इन्द्रधनुष जब बनता है।

जैसा कि आज का शीर्षक रंगों के बारे में है और हम प्रायः हर रोज पूरे दिन में किसी ना किसी समय रंगों के नाम अवश्य लेते हैं। किसी से कुछ लाने को जब हम बोलते हैं तो हम वहां भी कभी कभी रंगो का जिक्र करते हैं। बच्चों को रंगों की जानकारी होना बेहद जरूरी है। इसलिए बचपन में ही बच्चों को रंगों की ज्ञान प्रदान की जाती है। कभी कभी दो रंगो के मिश्रण से अलग रंग भी बनते हैं। हर रंग का अपना उपचारक होता है।

यह भी जरूर पढ़ें:  गिनती: 1 से 100 से अनंत तक की गिनती हिंदी शब्दों में लिखना सीखें।

नीचे दी गई १० रंगों के नाम और पहचान हर किसी को होनी चाहिए। हर बच्चे को इसकी जानकारी जरुर होनी चाहिए। और भी कई सारे रंग होते हैं लेकिन यहां बस महत्वपूर्ण रंगों के ही नाम लिखे गए हैं। इन्हीं रंगों पर और सभी रंग आधारित है। जैसे हल्का लाल, हल्का पीला, गहरा हरा, गहरा गुलाबी, केसरिया रंग इत्यादि।

लाल
हरा
पीला
गुलाबी
नारंगी
नीला
काला 
भूरा
सफेद
बैंगनी
Red 
Green
Yellow
Pink
Orange
Blue
Black
Brown
White
Purple

कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां रंगों के बारे में देख लीजिए। बच्चे हो या बड़े हर किसी को नीचे दिए गए बातों के बारे में अवश्य ज्ञान होनी चाहिए।

रंगों को तीन प्रकार में बांटा गया है। 

  • प्राथमिक रंग
  • द्वितीय रंग
  • अनुपूरक रंग 

प्राथमिक रंग वैसे रंग होते हैं जो किसी भी मिश्रित रंगों से कभी नहीं बन सकते हैं।प्राथमिक रंग स्वतंत्र अवस्था में पाए जाते हैं।तीन रंगों को प्राथमिक रंग बोलते है – लाल, हरा और नीला।हमलोग दूरदर्शन देखते हैं उसमे यही तीन रंग मौजूद होते हैं।

यह भी जरूर पढ़ें:  ‍50 पंक्षियों के नाम की सूची

किन्हीं भी दो प्राथमिक रंगों का जब हम मिश्रण करते हैं तो उसे ही द्वितीय रंग बोलते हैं।जैसे लाल और नीला रंग को मिलाएंगे तो रानी रंग बनेगा जिसे मैजेंटा भी बोलते हैं।

जब कोई रंग एक प्राथमिक और एक द्वितीय रंग के मिश्रण से बनता है तो उसे अनुपूरक रंग बोलते हैं।

इन्द्रधनुष में सात रंग पाए जाते हैं।वो सात रंगो के नाम (vibgyor) – बैगनी,इंडिगो,नीला,हरा,पीला,नारंगी और लाल।

बच्चों को बेशक यातायात के लिए दो रंगों की जानकारी होनी चाहिए। जिसमे लाल और हरा रंग हैं।यातायात में लाल रंग दिखने से हमें सड़क नहीं पार करना चाहिए जब तक कि हर निशान नहीं दिखे।हरा रंग दिखते ही हम सड़क पार कर सकते हैं।

लाल रंग को खतरनाक रंग भी बोला जाता है। इसे खतरनाक जगहों में इसलिए इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि यह रंग बहुत दूरी से दिख जाता है।एम्बुलेंस हो या रेलवे ट्रैक हर जगह आपको ये रंग मिलेंगे।

Leave a Comment