दालचीनी के फायदे उपयोग और नुकसान क्या है?

दालचीनी का नाम सभी लोग जानते हैं। दालचीनी का उपयोग  सभी के घरों में मसाला के रूप में किया जाता है, क्योंकि दालचीनी सब्जियों में स्वाद बढ़ाने का काम करता है। दालचीनी का उपयोग औषधि बनाने में भी किया जाता है। दालचीनी का उपयोग च्यवनप्राश बनाने में भी किया जाता है। आज हम इस लेख के जरिए जानेंगे कि दालचीनी हमारे स्वास्थ्य के लिए किस तरह फायदेमंद हो सकता है। दालचीनी के फायदे नुकसान और उपयोग किस तरह किया जाता है। तो चलिए सबसे पहले हम जानते हैं,दालचीनी के फायदे क्या है?

दालचीनी के फायदे

1. दालचीनी डायबिटीज और ब्लड शुगर को कम करने में मदद कर सकता है।

जो लोग डायबिटीज के मरीज हैं।उन लोगों को दालचीनी का सेवन प्रत्येक दिन करना चाहिए,क्योंकि  दालचीनी डायबिटीज को काफी हद तक नियंत्रित कर सकता है। ऐसा कहा जाता है, दालचीनी में  एंटी डायबिटिक गुण पाए जाते हैं।जो डायबिटीज के खतरे से बचा सकता है।

 2. हृदय स्वास्थ्य के लिए दान चीनी फायदेमंद हो सकता है।

दालचीनी डायबिटीज के साथ ही हानिकारक कोलेस्ट्रोल के स्तर को  कम करके ह्रदय  को स्वस्थ रखने का काम कर सकता है। जो लोग डायबिटीज के मरीज हैं उन लोगों को प्रत्येक दिन छह ग्राम दालचीनी का सेवन करना चाहिए। इससे एलडीएल, सीरम ग्लूकोज, ट्राइग्लिसराइड और टोटल कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करके हृदय से जुड़ी कई प्रकार के समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है।

See also  हिंदी कविता कक्षा 4 की प्रतियोगिता के लिए | Hindi Poem for Class 4th Competition

3. ओरल हेल्थ में दालचीनी फायदेमंद हो सकता है।

दालचीनी हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है।आपको बता दें कि दालचीनी से निकलने वाले  तेल, स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स नामक बैक्टीरिया की गतिविधि को रोकने का काम कर सकता है। यह बैक्टीरिया कैविटी के लिए जिम्मेदार होता हैं। दालचीनी  दांतों के लिए  हानिकारक हो सकता है। इसलिए दालचीनी का इस्तेमाल  कम और सही तरीके से करना चाहिए। इतना ही नहीं दालचीनी ओरोफेशीयल कंडीशन को भी  कम कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि यह एक ऐसा दर्द है। जो जबड़े और चेहरे को काफी प्रभावित कर सकता है। इसके अलावा दालचीनी के तेल में उपलब्ध एंटीबैक्टीरियल गुण पाया जाता हैं।जो मुंह को बैक्टीरिया से बचाने का काम कर सकता है।

4. श्वसन संबंधी बीमारियों से राहत पाने के लिए दालचीनी का उपयोग किया जा सकता है।

आपने किसी -किसी को देखा होगा कि उन्हें  सांस लेने में काफी परेशानियां होती है और फेफड़ों से संबंधित कई बीमारियां होती है।ब्रोंकाइटिस नामक बीमारी जिन लोगों को होता है।उनके फेफड़े के अंदर सूजन और इन्फेक्शन होता है।जिससे उन्हें सांस लेने में काफी तकलीफ होती है,और सीने में जलन भी होता है। इन सब बीमारियों से बचने के लिए दालचीनी का उपयोग किया जा सकता है।ऐसा कहा जाता है कि जो लोग दालचीनी का उपयोग करते हैं।उन्हें श्वसन तंत्र जैसी बीमारियों से राहत मिल सकता है।एस. निमोनिया और एम. कैटरर्हालिस बैक्टीरिया मिलकर क्रोनिक ब्रोंकाइटिस को जन्म देते  है। इन बैक्टीरिया के प्रभाव को दालचीनी में मौजूद एंटी-बैक्टीरियल गुण कम करने में मदद कर सकता है। दालचीनी के तेल और इसकी भाप, ये दोनों  बैक्टीरिया से लड़ने में असरदार हो सकते हैं।

See also  जीरो के बारे में जानकारी | शून्य संख्या की परिभाषा क्या है, खोज किसने और कब की, उसका महत्व जानिए।

5. स्वस्थ बालों के लिए दालचीनी का उपयोग किया जा सकता है।

आजकल सभी लोग चाहते हैं, कि उनके बाल स्वस्थ लंबे और मजबूत  बने रहे इसके लिए ना जाने कई प्रकार के तेल और शैंपू का उपयोग अपने बालों में करते हैं,लेकिन बालों में कोई सुधार नहीं आता है।ऐसे में अगर बालों के लिए दालचीनी का उपयोग किया जाए तो  बाल काफी अच्छे हो सकते हैं ।

ये तो सभी लोग जानते है। दालचीनी का उपयोग ज्यादातर घरों में किया जाता है।दालचीनी डालकर काढ़ा बनाया जाता है। दालचीनी सब्जी में डाला जाता है।दालचीनी हमारे सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है, इतना ही नहीं दालचीनी हमारे बालों के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। जो लोग अपने बालों को लंबे और घने बनाना चाहते हैं। वो लोग अपने बालों में दालचीनी की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बनाकर अपने बालों पर लगाएं।अगर वो ऐसा 10 से 15 दिन तक करते हैं,तो उनके बालों में फर्क दिख सकता है।

दालचीनी किस तरह नुकसानदायक होता है।

दालचीनी के फायदे के बारे में हमने आपको ऊपर बता ही दिया है। अब हम  जानते है, दालचीनी हमारे लिए किस तरह नुकसानदायक हो सकता है, क्योंकि जो लोग दालचीनी के फायदे जानते हैं वह और सीमित मात्रा में दालचीनी का उपयोग करने लगते हैं जो उनके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है।दालचीनी का अत्यधिक  सेवन करने से दांतों पर बुरा असर पड़ सकता है। जिससे प्लाक और अन्य बीमारी उत्पन्न हो सकती है।

दालचीनी का अत्यधिक सेवन करने से पेट से जुड़ी कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न हो सकता है।

See also  त्वचा में निखार लाने के लिए 5 बेहतरीन घरेलू नुस्खे।

दालचीनी का उपयोग अत्यधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए।जो लोग अत्यधिक मात्रा में दालचीनी का सेवन करते हैं उनके शरीर में ग्लूकोज का लेवल काफी कम हो सकता है जिससे व्यक्ति ऊर्जा हीन महसूस कर सकता है।

सूखे हुए दालचीनी का उपयोग हमारे शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए सूखे हुए दालचीनी का उपयोग नहीं करना चाहिए

दालचीनी का उपयोग  

  1. दालचीनी का उपयोग ज्यादातर मामले में किया जाता है।
  2. कुछ लोग दालचीनी पाउडर को कुछ लोग दूध और गर्म पानी में भी डाल कर पीते हैं।
  3. दालचीनी का उपयोग शहद में मिलाकर चेहरे पर भी लगाया जाता है।
  4. दालचीनी का उपयोग काढ़ा बनाने मे किया जाता है।
  5. दालचीनी का उपयोग ज्यादातर लोग अपने बालों के लिए भी करते हैं। दालचीनी पानी में उबालकर लोग अपने बालों को भी धोते हैं।
  6. दालचीनी का उपयोग च्यवनप्राश में भी किया जाता है।
  7. दालचीनी का उपयोग ज्यादातर लोग मासिक धर्म में दर्द  से छुटकारा पाने के लिए भी किया जा सकता है।
  8. जो लोग सर दर्द से परेशान है वो इससे निजात पाने के लिए भी दालचीनी का उपयोग कर सकते हैं ।
  9. मिर्गी से राहत के लिए भी दालचीनी का उपयोग किया जा सकता है।
  10. जो लोग त्वचा संबंधी बीमारियां से परेशान हैं वो लोग भी दालचीनी का उपयोग कर सकते हैं।
Scroll to Top